Pthon

 118 total views

Python एक Object-oriented, High level programming language है, जिसका इस्तेमाल Website building, App development, Machine learning, Data analysis, Web scraping और Natural language processing जैसे कार्यो में किया जाता है. पाइथन को general purpose programming language भी कहा जाता है. इसकी शुरूआत 1980 के दशक में हुई थी.

Python language की स्पष्ट syntax और readability के कारण यह आज दुनिया की सबसे popular programming language बन चुकी है. पाइथन dynamic typing और dynamic binding जैसे विकल्पों की सुविधा देता है. इस कारण Rapid Application development के क्षेत्र में इसका इस्तेमाल बखूबी किया जाता है.

python एक interpreted language भी है, इसका अर्थ हुआ पाइथन में लिखे गये program को चलाने से पहले compiled करने की जरूरत नही होती है. पाइथन भाषा modules और packages के उपयोग का समर्थन करती है. आसान शब्दों में समझे तो python program को एक modular style में design कर सकते है और इसके code को कई प्रकार के दूसरे project में पुनः उपयोग किया जा सकता है.

अगर आप programming language सीखना चाहते है, तो python से शुरुवात करना समझदारी भरा कदम है. क्योंकि इसके code बिल्कुल English language की तरह होते है और इन्हें लिखने के लिए किसी भी तरह के curly bracket ({}) की जरूरत नही होती है.

पाइथन क्यों सीखनी चाहिए

एक programming language के रूप में आपको python क्यों सीखनी चाहिए? इसके कुछ सकारात्मक भाग नीचे बताये गए है:

1) पाइथन पूरी तरह से free language है, इसे download, use और code के लिए कोई पैसा नही देना होता है.

2) Python commands आम English word में होते है, जिससे आप आसानी से इन्हें सीख पाते है.

3) यह एक object-oriented language है, जिसका फायदा आपको दूसरी programming language सीखने में होता है.

4) इसका इस्तेमाल कई प्रकार के Application बनाने में किया जाता है. यदि आपको प्रोग्रामिंग भाषाओं का थोड़ा भी ज्ञान नही है, फिर भी आप python code को आसानी से सीख सकते है.

5) पाइथन का उपयोग Artificial intelligence और data science में भी किया जाता है. हम सब जानते है, AI यानी कृतिम बुद्धिमत्ता technology की दुनिया का भविष्य है. इस हिसाब से पाइथन सीखना हमारे लिए फायदे का सौदा है.

6) अगर आप Python developer के career की बात करे तो आज के समय इससे ज्यादा उज्ज्वल भविष्य किसी भी क्षेत्र में नही है. एक python engineer की Sallery 50,000 – 500,000 तक होती है.

पाइथन का इतिहास

Python programming language को 1980 के दशक में Guido Van Rossum द्वारा बनाया गया था. इसकी शुरुआत National Institute For mathematics and computer science Netherlands में हुई थी. python language का अविष्कार ABC programming language से प्रेणा लेकर हुआ था. क्योंकि यह exception handling और Amoeba operation system के साथ interface करने में सक्षम थी.

पाइथन के नाम को लेकर कई लोग सवाल करते है, कि एक सांप के नाम का programming language से क्या ताल्लुक. दरअसल पाइथन के नाम की उत्पत्ति एक comedy show के नाम से हुई. 1970 के दशक में BBC Comedy Series द्वारा Monty Python’s Flying Circus नामक एक script प्रकाशित हुई. इससे प्रभावित होकर Van Rossum ने python को नाम दिया.

फिलहाल पाइथन को इस वक्त Core development team द्वारा maintain किया जाता है. जो python programming language में हर रोज नए update और features जोड़ते है. साल 1994 में पाइथन का First version- Python 1.0 लाया गया था. इसके बाद कई version update आते गए.

पाइथन की विशेषताएं (Python Features)

आज के दौर में कई सारी programming language उपलब्ध है, जिसके कारण अक्सर हमे उनमे से एक चुनने में काफी दिक्कतें होती है. ऐसे में जरूरत है, उनके features को compare करने की. आपको देखना होगा किसकी क्या विशेषता है. तो चलिये python की कुछ विशेषताओं को जानते है.

Easy Programming Language

सभी बाकी programming language में अगर कोई सीखने और उपयोग करने में आसान है, तो वह पाइथन है. दूसरी भाषाओ के विपरीत पाइथन में code करना आसान है. थोड़े बहुत प्रयास के साथ python syntax सीखे जा सकते है. high level programming होने के बावजूद भी python code आसान अंग्रेजी भाषा मे होते है जिन्हें समझना (understand) और सीखना (learn) आसान है. इस कारण आप इसे programmer friendly भी कह सकते है.

Interpreted Language

Python को छोड़कर दूसरी programming language को चलाने के लिये हमें इसे संकलित (compile) करने की आवश्यकता होती है. परन्तु python के मामले में python code बिना संकलित किये चलाये जा सकते है. यहां interpreted का अर्थ है, source code को line by line निष्पादित किया गया है.

फिलहाल पाइथन को इस वक्त Core development team द्वारा maintain किया जाता है. जो python programming language में हर रोज नए update और features जोड़ते है. साल 1994 में पाइथन का First version- Python 1.0 लाया गया था. इसके बाद कई version update आते गए.

पाइथन की विशेषताएं (Python Features in Hindi)

आज के दौर में कई सारी programming language उपलब्ध है, जिसके कारण अक्सर हमे उनमे से एक चुनने में काफी दिक्कतें होती है. ऐसे में जरूरत है, उनके features को compare करने की. आपको देखना होगा किसकी क्या विशेषता है. तो चलिये python की कुछ विशेषताओं को जानते है.

Easy Programming Language

सभी बाकी programming language में अगर कोई सीखने और उपयोग करने में आसान है, तो वह पाइथन है. दूसरी भाषाओ के विपरीत पाइथन में code करना आसान है. थोड़े बहुत प्रयास के साथ python syntax सीखे जा सकते है. high level programming होने के बावजूद भी python code आसान अंग्रेजी भाषा मे होते है जिन्हें समझना (understand) और सीखना (learn) आसान है. इस कारण आप इसे programmer friendly भी कह सकते है.

Interpreted Language

Python को छोड़कर दूसरी programming language को चलाने के लिये हमें इसे संकलित (compile) करने की आवश्यकता होती है. परन्तु python के मामले में python code बिना संकलित किये चलाये जा सकते है. यहां interpreted का अर्थ है, source code को line by line निष्पादित किया गया है.

Expressive Language

जब Expressive शब्द का उपयोग होता है, तो इसका अर्थ है, understandable और readable. पाइथन एक ऐसी प्रोग्रामिंग भाषा है, जिसे पढ़ना और समझना बहुत आसान है. कई ऐसे program है, जो बाकी programming language में नही किये जा सकते परन्तु python में किये जाते है.

Cross- Platform Language

यदि हम python code को किसी एक operating system (Window, Mac, Android, Linux) के लिए लिखते है, तो आपको इसे किसी दूसरे ऑपरेटिंग सिस्टम में चलाने के लिये कोई बदलाव नही करने होंगे. इसका मतलब है python language सभी platform को support करती है. किसी भी प्रोग्रामिंग भाषा को सीखने से पूर्व आपको देखना होगा क्या वह portable language है.

Open Source

पाइथन open source है, इसका अर्थ python source code पूरी दुनिया के लिए उपलब्ध है. हम इसे आसानी से download, change, use और distribute कर सकते है. इसके साथ ही python एक free language है, जिसके tools का उपयोग आप आसानी से कर सकते है.

Embedded

पाइथन पूरी तरह से embedded है, अर्थात इसके source code में अन्य programming language के code डाले जा सकते है और अन्य भाषाओं के source code में python code डाला जा सकता है. यह हमें दूसरी भाषाओ की scripting क्षमताओं को हमारे program में एकीकृत करने की अनुमति देता है.

Large Standard Library

जब हम python download करते है, तो इसके साथ हमे code की large library भी मुहैया होती है. जिसके कारण आपको हर एक चीज के लिए अपना कोड लिखना नही पड़ता है. यह हमें rapid application development के लिये module और functions का स्मृद्ध सेट प्रदान करता है.

Extension

जरूरत पढ़ने पर हम python code को C++ जैसी दूसरी भाषाओं में लिख सकते है. यह पाइथन को एक extensible language बनाता है. इस कारण हम python को अन्य भाषाओं में बड़ा सकते है.

GUI Programming Support

python के उपयोग से Graphical user interface (GUI) बनाया जा सकता है. GUI, user interface का रूप है, जो user को command line के माध्यम से केवल text के बजाय electronic device के साथ बातचीत करने के लिए icon या अन्य visual indicators का उपयोग करता है.

पाइथन कैसे सीखें (Learn Python)

लम्बी कहानी पढ़ने के बाद अब हम इस सवाल पर आये है, पाइथन कैसे सीखें? यह जरूरी भी है आपको इसकी शुरुआत करने से पहले यह जानना होगा कि पाइथन सीखने का सबसे अच्छा तरीका कौन सा है? आज के माहौल में कोई भी computer language सीखना उतना मुश्किल नही है, जितना पहले हुवा करता था. इंटरनेट के विकसित होने से कई resources हमारे लिए खुले है. नीचे हमने आपके साथ कुछ tips और resource शेयर किये है, जो आपको python language सीखने में मदद करेंगे.

Python Programming सीखने के लिए कुछ टिप्स:

1. आप किसी भी तरह की computer language सीख रहे है, तो consistency बहुत जरूरी है. आपको रोज कुछ न कुछ code करना ही होगा अपनी programmer वाली एक आदत बनानी होगी. अगर हम इसे सीखने के प्रति प्रतिबद्ध नही होंगे तो यह हमें जल्द ही ऊबाऊ लगेगा.

2. सीखने में जल्दबाजी न दिखाए धीरे – धीरे चीजो को सीखे. महत्वपूर्ण विषय या जो आपको कठिन लगे उसके notes बनाकर अपने पास सुरक्षित रख ले. लगातार कुछ घंटे करने के बजाये आधे घंटे में एक पांच मिनट का break ले.

3. अगर मुम्किन हो सके तो, एक partner ढूंढे यह आपके coding सीखने को बहुत interesting बना देगा. दो लोगो के होने से कई tips और tricks आपस मे शेयर होते रहती है जिससे सीखने के प्रति लगाव बढ़ता है.

4. सही resources का पहले ही चुनाव कर ले. अगर आप किसी Website या YouTube Video के माध्यम से सीखना चाहते है, तो लगातार इनसे ही सीखते रहे. अन्यथा आस – पास किसी institute से course करे.

5. “Practice Makes a Man Perfect” यह सुविचार तो आपने सुना ही होगा. जो आप सीख रहे है उसको लगातार practice करते जाये. किसी भी तरह की Programming language सीखने के लिए सबसे जरूरी है उसका लगातार अभ्यास.

6.  एक बार जब आप basic data structure, object oriented programming और code लिखने में थोड़ी बहुत समझ प्राप्त कर ले तो इसके आधार पर कुछ project शुरू करे. अपने python ज्ञान के आधार पर कुछ बनाये. इससे आपको confidence मिलेगा और आप तेजी से आगे बढ़ पाएंगे.

Python Language के Pros और Cons

इतना तो हम जान चुके कि python आज के समय की सबसे popular programming language है, लेकिन हर सिक्के के दो पहलू होते है और पाइथन में भी कुछ कमियां जरूर होंगी. चलिये एक बार इसके दोनों पहलुवों पर नजर डालते है.

Prons

  • Python सीखने और समझने में बहुत सरल है. python code को बनाते वक्त readability पर ध्यान दिया गया है. दूसरी भाषाओ के विपरीत यह साफ सुथरी और use करने में आसान है.
  • पाइथन भाषा कई प्रकार के system और platform को support करता है साथ ही यह object oriented programming चालित भी है.
  • आज के समय की सबसे ज्यादा programmer द्वारा इस्तेमाल होने वाली भाषा python है.
  • पाइथन में बहुत सारे framework है, जो web programming को बहुत flexible बनाते है.
  • आप less code का उपयोग करके भी अधिक development कर सकते है. जिससे आपके समय की काफी बचत होती है.
  • इसमे App development, Web development और Machine learning के लिये एक बड़ी code library उपलब्ध होती है.

Cons

  • पाइथन का interpreted language होना फायदे के साथ नुकसान भी है. इस कारण पाइथन बाकी programming language के मुकाबले slow है.
  • यह mobile development के हिसाब से एक अच्छी भाषा नही है.
  • पाइथन multi processor या multi core काम के लिए ठीक नही है.
  • इसका database access में खुल कर उपयोग नही किया जा सकता क्योंकि डेटाबेस एक्सेस के साथ python की limitation है.
  • Memory intensive task के लिए python एक बेहतर विकल्प नही है.
  • अगर आप high-Graphic 3D Game बनाने की सोच रहे है. तो यह python के उपयोग से असंभव है.

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.